Perspective of Indian society 2011-12 Sem 1

Perspective of Indian society 2011-12 Sem 1

BT/Sem-1/78

B.A. (Hons.) Semester-1 Examination, 2011-12

Sociology

Core Course

Paper: BSS-112

Perspective of Indian society

 

  • Time: Three Hours
  • Full Marks: 70

 

Note: This paper comprises of 3 sections. All questions of Section A are compulsory. There are three short answer type questions with internal choice to be answered in section B and two long answer type questions with internal choice to be answered in Section C.

इस प्रश्न-पत्र के तीन खंड हैं ‘अ’,  ‘ब’ एवं ‘स’ हैं. भाग ‘अ’ के सभी प्रश्न अनिवार्य हैं.  भाग ‘ब’ से तीन प्रश्नों तथा भाग ‘स’ से 2 प्रश्नों का उत्तर दें जो आंतरिक विकल्प के साथ हैं.

Section – A/ खंड-  अ

(Objective type questions)

Note: Write the answers of the following questions is not more than 50 words each. Each question carries 2 marks.

निम्नलिखित प्रश्नों में से प्रत्येक के उत्तर अधिकतम 50 शब्दों में दें.  प्रत्येक प्रश्न के 2 अंक हैं.

1.(a) Mention any two characteristics of Indian society.

भारतीय समाज की किन्हीं दो विशेषताओं का उल्लेख कीजिए.

(b) Who is the author of “Hindu Social Organisation” ?

“हिंदू सोशल ऑर्गेनाइजेशन” का लेखक कौन है?

(c) Name any two types of Dharma.

धर्म के किन्ही दो प्रकारों के नाम बताइए?

(d) Who is propounder of Buddhist religion.

बौद्ध धर्म के प्रवर्तक कौन है?

(e) What is perspective?

परिप्रेक्ष्य क्या है?

Section-B/खंड- ब

(Short answer type questions)

Note: Answer each question in about 250 words.  Each question carries 10 marks.

निम्नलिखित प्रश्नों में से प्रत्येक के उत्तर अधिकतम 250 शब्दों में दें.  प्रत्येक प्रश्न के 10 अंक हैं.

2. Discuss the sociological meaning of Dharam.

धर्म के समाजशास्त्रीय अर्थ की विवेचना कीजिए.

Or / अथवा

Describe the importance of Sananyas Ashram.

 सन्यास आश्रम का महत्व बताइए.

3. What is Indological perspective?

भारत विद्याशास्त्रीय परिप्रेक्ष्य क्या है?

Or / अथवा

What do you understand by Ashram system?

आश्रम व्यवस्था से आप क्या समझते हैं?

4. Elucidate the types of Purushartha.

पुरुषार्थ के प्रकारों को स्पष्ट कीजिए?

Or / अथवा

Explain the relationship between Karma and PunarJanam.

कर्म तथा पुनर्जन्म का संबंध स्पष्ट कीजिए.

Section: C//खंड- स

(Long answer type questions)

Note: Answer all questions.  Each question carries 15 marks.

सभी प्रश्नों के उत्तर दीजिए.  प्रत्येक प्रश्न 15 अंकों का है.

5. Discuss the contributions of G.S. Ghurye in Indological perspective.

जी.एस.  घूरिये के भारत विद्याशास्त्रीय परिप्रेक्ष्य में किए गए योगदान की विवेचना कीजिए.

Or / अथवा

What is Purushartha? Discuss its sociological importance.

पुरुषार्थ क्या है? इसके समाजशास्त्रीय महत्व की  व्याख्या कीजिए.

6. Discuss the transitional trends in Indian society.

भारतीय समाज की संक्रमण की प्रवृत्तियों की विवेचना कीजिए.

Or / अथवा

What is Dharma?  Distinguish between Samanya Dharma and vishishta Dharma.

धर्म क्या है?  सामान्य धर्म और विशिष्ट धर्म में अंतर बताइए.

Read also:

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*